cộng đồng happy live đầu tư và thịnh vượng công ty cp đầu tư xuất nhập khẩu thăng long yêu em từ cái nhìn đầu tiên wiki nh đầu tu cán cân thương mại công ty cổ phần đầu tư thương mại tạp phẩm sài gòn phí môi giới thuê nhà

प्रत्येक समस्या का समाधान होता है

हर किसी को अपनी जिंदगी में समस्याओं का सामना करना पड़ता है। लेकिन कई बार मनुष्य के सामने कुछ ऐसी समस्याएं होती है कि जिनका सामना करना उनके लिए बेहद जरूरी बन जाता है क्योंकि कभी-कभी समस्याओं के समाधान के  बल पर ही आप खुद को साबित कर सकते हैं और अपना डंका बजा सकते हैं।

लेकिन इसके लिए आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि किसी भी समस्या का सामना करना थोड़ा मुश्किल जरूर हो सकता है लेकिन कोई भी समस्या आपसे बड़ी नहीं हो सकती है।

इस बात को हम इस कहानी की माध्यम से  समझएंगे कि समस्या है तो समाधान भी है :-

एक दिन एक कुत्ता, भोजन के सिलसिले में जंगल की ओर गया और जंगल में रास्ता भटक गया । तभी उसने देखा कि एक शेर उसकी तरफ आ रहा है । कुत्ते की साँसे थम गयीं । उसने सोचा “ आज तो, मेरा काम तमाम हो जाएगा !उसने सोचा कि “यदि मैंने भागने की कोशिश की तो यह शेर मुझे नहीं छोड़ेगा क्योंकि मैं कितना भी तेज क्यूँ न भागूं पर शेर से तेज नहीं दौड़ सकता । उसके पास विकल्प बहुत कम थे । उसने हिम्मत से काम लिया । उसने देखा की उसके आस – पास सूखी हड्डियाँ पड़ी थी । वह शेर की तरफ पीठ करके बैठ गया और एक हड्डी चूसने लगा । कुत्ता जोर-जोर से बोलने लगा “वाह, आज तो मजा ही आ गया । शेर को खाने का मजा ही कुछ और है । एक और शेर मिल जाए तो पूरी दावत हो जाएगी । ऐसा कहते हुए कुत्ते ने जोर से डकार मारी ।कुत्ते के मुख से ऐसी बात सुनकर शेर सोच में पड़ गया । उसने मन ही मन सोचा “यह कुत्ता सामान्य कुत्ता नहीं है । यह तो बहुत खतरनाक है । यह शेर का शिकार करता है । यहाँ से भागने में ही भलाई है ” और शेर उल्टे पैर ही वहां से भाग खड़ा हुआ ।  कुत्ता बहुत खुश हुआ उसने चैन की सांस ली । पेड़ पर बैठा बन्दर यह सब कुछ देख रहा था । उसने सोचा कि यह बढ़िया मौका है – मैं शेर को सारी घटना की सच्चाई बता दूंगा । शेर से दोस्ती हो जाएगी और इस तरह से शेर से जिंदगी भर का जान का खतरा भी खत्म हो जाएगा ।

बंदर मन ही मन खुश हुआ और फटाफट शेर के पीछे दौड़ा |कुत्ते ने बन्दर को शेर के पीछे जाते देख लिया । वो समझ गया की जरूर कोई खतरा आने वाला है । बन्दर ने शेर को पूरी कहानी बता दी कि कैसे एक कुत्ते ने उसे बेबकूफ बना दिया है !  शेर को बहुत क्रोध आया । वो जोर से दहाडा और उसने बन्दर से कहा “ चल मेरे साथ, अभी कुत्ते को सबक सिखाता हूँ” और बन्दर को अपनी पीठ पर बैठाकर शेर कुत्ते की तरफ लपका ।कुत्ते ने शेर को अपनी तरफ आते देखा पर इस बार वो घबराया नहीं क्योंकि उसे इस बात का अंदाज़ा था और वो पहले से ही सावधान था । उसने फिर हिम्मत का सहारा लिया और एक बार फिर से शेर की तरफ पीठ करके बैठ गया और जोर –जोर से बोलने लगा “बहुत ही काम-चोर बन्दर है यह । इससे एक काम भी ठीक से नहीं होता है । पूरा 1 घंटा हो गया पर इससे एक शेर भी नहीं फंसाया गया । आने दो अभी इसे मजा चखाता हूँ| यह सुनते ही शेर घबरा गया । उसने बन्दर को अपनी पीठ से पटका और वापस जंगल की तरफ भाग गया |इस तरह कुत्ते ने अपनी सूझ-बूझ और हिम्मत की बदौलत शेर पर विजय पा ली ।

(पंचतंत्र की कहानियां से उद्धृत)

इसलिए किसी भी समस्या हो उसका सामना  अगर पूरे आत्मविश्वास, पूरी निष्ठा और सच्चे मन से किया जाए तो ये खुद महसूस होगा कि कोई भी समस्या  आपसे बड़ी नहीं हैं।

इसलिए बच्चों !

यह सच है की जब तक हमारा जीवन है – हमें हर रोज नयी-नयी समस्याओं का सामना करना होगा । लेकिन यह हम पर निर्भर है कि हम किसी समस्या को – समस्या मानते हैं या उसे एक चुनौती के रूप में स्वीकार कर उसका समाधान तलाशते हैं ।

इसलिए कोई भी समस्या आने  से घबराए नहीं बल्कि इनका पूरी हिम्मत, धैर्य और बहादुरी से सामना करें तो आप अपने बिगड़े काम भी बना सकते हैं साथ ही ये भी साबित कर सकते हैं कि कोई भी समस्या  बिना समाधान के नही आती ।

समस्या और समाधान एक ही सिक्के के दो पहलू हैं । जब भी आपके समक्ष कोई समस्या उत्पन्न हो तो आप – स्वयं को यह विश्वास दिलाएं की यदि कोई समस्या है तो उसका समाधान भी होगा । समस्या कितनी भी बड़ी क्यों न हो लेकिन यदि आप उससे बिना विचलित हुए उसके समाधान पर काम करेंगे तो आपकी जीत निश्चित है परन्तु इसके विपरीत यदि आप केवल समस्या के बारे में ही सोचेंगे तो आप समस्याओं के जाल में उलझते ही चले जाएँगे ।

यहाँ याद रखने वाली बात यह है कि…….

जो लड़ गया ! वो जीत गया !!

जो डर गया ! वो …… गया !!

घर पर रहिए ,सुरक्षित रहिए और कोई भी समस्या आये बिना विचलित हुए उसके समाधान पर काम  करते रहिए।

Share Button

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *